कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर की पूरी जानकारी हिंदी में।

आज का विषय – कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर की पूरी जानकारी हिंदी में।

हेलो दोस्तों मैं Krishan Saini आपका हमारी वेबसाइट पर स्वागत करता हूं आज हम बतायगे की आपको कंप्यूटर क्या है आज के युग में कंप्यूटर जीवन का एक अहम् हिस्सा बन गया है।

कंप्यूटर के बिना जिंदगी अधूरी सी नजर आती है। कंप्यूटर को हमारे दैनिक जीवन के कामकाज को निपटाने के लिए तथा घरों में भी कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है यही नहीं कंप्यूटर स्कूलों और कॉलेजों के प्रतियोगि परीक्षाओं में भी कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है।

कंप्यूटर सरकारी ऑफिसर मैं भी इसका रोजाना इस्तेमाल किया जाता है आज के युग में कंप्यूटर हमारे जीवन का एक अहम् हिस्सा बन गया है।

इसलिए हम सभी को कंप्यूटर के बारे मे अच्छी तरह से परिचय होना चाहिए तभी हम इसका सही ढंग से उपयोग करके कामयाब हो सकते हैं।

आज के युग में कंप्यूटर के उपयोग को देखते हुए इसके बारे में बेसिक जानकारी होना जरूरी है इन सभी बातों को ध्यान में रखते हुए हमने आपके लिए कंप्यूटर के ऊपर एक लेख लिखा है।

जिससे आपको कंप्यूटर के बारे में अधिक से अधिक जानकारी मिल सके और आप अपने घर या ऑफिस में कंप्यूटर का उपयोग सही रूप से कर सके और आने वाले प्रतियोगी परीक्षाओं में आपको पूरा लाभ मिल सके। चलिए जानते है की कंप्यूटर क्या है

Table of Contents

कंप्यूटर क्या है?( Computer kya hai in hindi )

चलिए पढ़ते है की कंप्यूटर क्या है अक्सर लोग कंप्यूटर का नाम लेते ही उनके मन में सैकड़ों विचार आने लगते हैं कयोंकि कंप्यूटर एक सुपरमैन की तरह है।

यह अकेला तीव्र गति से कार्य करता है और कोई गलती नहीं करता इसकी क्षमता सीमित है यह अंग्रेजी शब्दComputerका अंग्रेजी शब्द है।

कंप्यूटर का हिंदी में मतलब गणना करना है कंप्यूटर एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस है जो यूजर द्वारा इनपुट किए गए डाटा में प्रक्रिया करके सूचनाओं को रिजल्ट के रूप में प्रदान करता है।

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन है इसके द्वारा दिए गए निर्देशों का पालन करता हैकंप्यूटर डाटा ग्रहण करता है और इसे सॉफ्टवेयर प्रोग्रामिंग के अनुसार प्रोसेस करता है।

कंप्यूटर को कृत्रिम बुद्धि की संज्ञा दी गई है यह केवल एक स्वचालित इलेक्ट्रॉनिक मशीन है।

कंप्यूटर की परिभाषा ( Computer ki paribhasha Hindi me ) –

कंप्यूटर क्या है इसके बारे में तो आप जानते होंगे। अब जानते हैं कंप्यूटर की परिभाषा। कंप्यूटर का अर्थ होता है की गणना करना। इसकी उत्पत्ति लैटिन भाषा के ‘Computare’ शब्द से हुई है

इसको हम पूरा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण (Electronic Device) कह सकते है। यह आपने अंदर यूजर के बहुत सरे डाटा को इनपुट करके रख सकता है।

कंप्यूटर है इस्तमाल अब हर क्षेत्र में होने लगा है। किसी भी कंप्यूटर में कुछ components काफी महत्वपूर्ण होते है तो इनको जानना हमारे लिए जरुरी हो जाता है ये कुछ इस प्रकार होते है Output Device, Input device, Mass Storage Device, CPU, और Memory आदि।

Processes dataProcessing
Accepts dataInput
Produces output Output
Stores resultsStorage के लिए

कंप्यूटर की विशेषता

आप या तो जान ही गए होंगे कि कंप्यूटर क्या है और कंप्यूटर की परिभाषा क्या होती है। आज के युग में कंप्यूटर ने इंसानों के कार्य को काफी आसान बना दिया है जिससे बड़े से बड़ा कार्य आसानी से कम समय में पूरा किया जा सकता है।

इस इलेक्ट्रिकल मशीन के गुणों के कारण इंसान अपना कार्य आसानी से कर सकता है।

कंप्यूटर अपनी विशेषताओ के कारण इंसान के जीवन का एक अहम् हिस्सा बन चुका है कंप्यूटर की खास विशेषता निम्न हैं।

1. गति ( Speed)

कंप्यूटर त्रिवगति से कार्य करता है इससे समय की बचत होती है यह लाखों निर्देशों को केवल एक सेकंड में ही संसाधित कर देता है।

इस मशीन का निर्माण तेज गति से कार्य करने के लिए किया गया है इसकी प्रोसेसर की गति लाख निर्देश प्रति सैकण्ड होती है।

2.बहुप्रतिभा (Multigenius)

यह स्थाई तथा विशाल भंडारण क्षमता की सुविधा देता है इसके द्वारा हम अपने दस्तावेज ,रिपोर्ट, वीडियो तथा ईमेल जैसे सभी जरूरी व उपयोगी कार्य करने में सक्षम होता हैं।

3. स्वचालित ( Automation)

कंप्यूटर एक संचालित मशीनें यह अपने कार्य को बिना इंसान के हस्तक्षेप के पूरा कर सकता हैं।

4.परिश्रमी (Hard working)

कंप्यूटर शुद्धता से कार्य करता है यह बिना रुके थके अपना कार्य सुचारु रुप से शुद्धता के साथ करता है।

यह अपने प्रोग्रामिंग के स्वरूप कार्य करता है इसे आराम की जरूरत नहीं होती।

5.शुद्धता(Accuracy)

कंप्यूटर पूरी शुद्धता के साथ कार्य करता है यदि इसके कार्य में कोई त्रुटि आती है तो वह इंसान ने हस्तक्षेप निर्देशकों के आधार पर होती है।

इनके परिणामों की शुद्धता मानव परिणामों की तुलना से बहुत ही ज्यादा होती है इसके द्वारा किए गए परिणाम या कार्य त्रुटिहीन होते हैं।

यह पूर्व निर्धारित निर्देशकों के अनुसार त्रिव निर्णय लेने में सक्षम है।

6. भंडारण क्षमता (Storage Capacity)

कंप्यूटर की भंडारण क्षमता काफी अधिक होती है कंप्यूटर मेमोरी काफी बड़ी होने के कारण उत्पादित परिणाम सभी प्रकार के डाटा को अनेक रूपों में सूचित किया जाता है।

यह एक भरोसेमंद व विश्वसनीय मशीनें है इसका जीवनकाल काफी लंबा होता है।

इसमें डाटा का भंडार करने के लिए कागजी दस्तावेज की जरूरत नहीं पड़ती इसकी भंडारण क्षमता इसके मेमोरी पर निर्भर रहती है।

कम्प्यूटर का इतिहास ( History of Computer in Hindi)

कंप्यूटर एक ऐसी मानव निर्मित मशीनें जिसने हमारे काम करने के तरीके में परिवर्तन कर दिया हैआधुनिक कंप्यूटर इतिहास की देने इसकी शुरुआत एक लकड़ी के अबेकस से शुरू होकर उच्च गति के माइक्रोप्रोसेसर में परिवर्तित हो गया है।

इसके बाद विभिन्न प्रकार के स्वचालित मशीन चार्ल्स बैबेज द्वारा बनाया गया स्वाचालित इंजन आज के कम्प्यूटर का आधार बना आप कंप्यूटर से इंटरनेट चलाते हैं।

गेम खेलते हैं वीडियो देखते हैं गाना सुनते हैं इसके अलावा ढेर सारे विश्व में काम करते हैं शिक्षा जगत और फिल्म जगतr तथा ऑफिस मे कंप्यूटर की सहायता से कार्य किया जाता है यह सब इतिहास की देन है।

अबेकस(Abacus)

अबेकस एक ऐसा यंत्र है जो गणना तारों में पिरोए मोतियों के द्वारा कार्य किया जाता है अबेकस का निर्माण लगभग 3000 वर्ष पूर्व चीन के वैज्ञानिकोँ ने किया था।

यह दुनिया का पहला गणना यंत्र है जिसके द्वारा सामान्य गणना की जाती है यह बिना बिजली के चलने वाला पहला कंप्यूटर था इस यंत्र से 17वीं शताब्दी तक गणना की जाती थी।

पास्‍कलाइन (Pascaline)

पास्‍कलाइन का निर्माण1645 में फ्रांस के वैज्ञानिक ब्लेज पास्कल ने किया यह एक कैलकुलेट मशीन है यह अबेकस एक से अधिक गति से गणना करता था।

यह दुनिया का पहला मैकेनिकल कैलकुलेटर था जो 0 से 9 तक संख्या को दर्शाता था यह केवल जोड़ घटा करने में सक्षम था इससे एंडिंग मशीन कहा जाता है।

एनालिटिकल(Analytical)

इसका निर्माण चार्ल्स बैबेज ने किया यह एक खगोलीय केलकुलेटर था इसका उपयोग यूनान में चंद्रग्रहण को ट्रैक करने के लिए किया जाता था।

चार्ल्स बैबेज ने कंसेप्ट का उपयोग कर पहला कंप्यूटर प्रोटोटाइप का निर्माण किया गया चार्ल्स बैबेज ने इससे पहले एक डिफरेंस इंजन का निर्माण भी किया था।

पंच कार्ड(Punch Card)

1880 लगभग पंच कार्ड का निर्माण किया गया।

अनिएक (ENIAC)

ENIAC-(Electronic Numerical Integrator And Computer) का निर्माण 1946 में किया गया।

दशमलव अंकगणितीय प्रणाली पर कार्य करता था जो पूर्ण इलेक्ट्रॉनिक कंप्यूटर है द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान इसका निर्माण हुआ।

यूनिभेक(Univac)

यह कंप्यूटर 1951 में व्यापारियों के काम में लाए जाने वाला पहला कंप्यूटर था।

इसे यूनिवर्सल ऑटोमेटिक कंप्यूटर भी कहते हैं।

कम्प्यूटर की पीढीयाँ (Generations of computers in Hindi)

कंप्यूटर आधुनिक समय में बहुत ही महत्वपूर्ण है पहले कंप्यूटर एक गणना के रूप में उपयोग किया जाता था।

धीरे-धीरे इसका विकास होता गया और जिसका उपयोग हमारे दैनिक जीवन के कामकाजो मैं उपयोग होना शुरू हो गया आज हमारे जीवन का यह एक हिस्सा बन चुका है।

प्राचीन समय से कंप्यूटर को पीढ़ी दर पीढ़ी विकास किया है आज हम आपको कंप्यूटर के पीढ़ी दर पीढ़ी किए गए विकास के बारे में जानकारी देंगे।

1.प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर(First generation computer)

1942-1956 प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर आते हैं यह कंप्यूटर आकार में बड़े और अधिक ऊष्मा उत्पन्न करने वाले होते थे इसमें सारे निर्देश तथा सूचनाएं 0तथा 1 के रूप में कंप्यूटर में संग्रित होते थे।

इन कंप्यूटर का उपयोग विज्ञानिक उपयोग के लिए किया जाता था इन कंप्यूटर की मशीन में निर्वात ट्यूब का उपयोग किया गया।

इनकी निर्वाह ट्यूब के उपयोग में कुछ कमियां थी जोकि निर्वात ट्यूब गर्म होने में समय लगता था और यह गर्म होने के बाद अत्यधिक उस्मा पैदा होती थी जिससे ठंडा होने में इसे समय लगता था।

इन कंप्यूटरों में मंद गति के इनपुट आउटपुट होते थे इनमें सीमित भंडारण क्षमता थी।

इनमें मशीनी भाषा का उपयोग किया गया था तथा इन्हें चलाने के लिए अधिक मात्रा में विद्युत खर्च होती थी।

2.दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर(Second generation computer)

1956-1964 दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर आते हैं यह कंप्यूटर प्रथम पीढ़ी के कंप्यूटर के मुकाबले काफी अच्छे थे।

इन पीढ़ी के कंप्यूटर में निर्वात ट्यूब की जगह हल्के छोटे ट्रांजिस्टर का उपयोग किया गया इस प्रकार के कंप्यूटर व्यवसाय व उद्योगों में उपयोग किए जाते थे।

कंप्यूटर में आंकड़े को निरूपित करने के लिए मैग्नेटिक कोर का उपयोग किया गया मैग्नेटिक डिस्क आयरन ऑक्साइड की परत होती है।

इनकी भंडारण क्षमता में वृद्धि हुई इनके इनपुट आउटपुट त्रिव विधि आई इसमें उच्च स्तरीय भाषा का उपयोग किया गया और प्रोग्रामिंग भाषा का विकास किया गया।

3.तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर(Third generation computer)

1964-1974 तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर आते हैं तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर प्रथम तथा दूसरी पीढ़ी के कंप्यूटर के मुकाबले काफी छोटे थे और इनके कार्य करने की क्षमता भी अच्छी थी।

तीसरी पीढ़ी के कंप्यूटर में ट्रांजिस्टर के जगह इंटीग्रेटेड सर्किट का उपयोग किया गया और सिलिकॉन चिप का भी उपयोग किया गया लोगों द्वारा इस कंप्यूटर में टाइपिंग का विकास हुआ।

इस पीढ़ी के कंप्यूटर में हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर अलग-अलग मिलना प्रारंभ हुआ ताकि आवश्यकता अनुसार इस सॉफ्टवेयर का उपयोग कर सकें।

तीसरी पीढ़ी कंप्यूटर में उच्च स्तरीय भाषा का उपयोग किया गया इस कंप्यूटर का उपयोग एयरलाइन, मार्केटिंग, क्रेडिट कार्ड बिलिंग में किया जाने लगा इन कंप्यूटरों में की बोर्ड और माउस का उपयोग किया जाने लगा।

इनकी कार्य क्षमता में बढ़ोतरी की गई यह कंप्यूटर अधिक भरोसेमंद और कम खर्चीली थे और यह आकार में बहुत छोटे और कम वजनी वाले थे इसलिए इसका उपयोग छोटे कामों में भी किया जाने लगा।

4.चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर(Fourth generation computer)

1974 – से चौथी पीढ़ी मानी गई है 1981-82 तक चौथी पीढ़ी का समय माना गया है।

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर माइक्रोप्रोसेसर पर चलते थे चौथी पीढ़ी कंप्यूटर में सिलिकॉन चिप का उपयोग किया गया इस चिप में लाखों चीजों को संगठित किया जा सकता था।

चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर में माइक्रोसॉफ्ट एक जैसी कंपनियों की शुरुआत हुई चौथी पीढ़ी कंप्यूटर में विंडो का निर्माण हुआ चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर क्षमता में वृद्धि हुई।

माइक्रोप्रोसेसर का उपयोग केवल कंप्यूटरों में ही नहीं बहुत सारी उत्पाद को मैं भी किया जाने लगा जैसे कि इलेक्ट्रॉनिक गेम आदि में।

कंप्यूटर का उपयोग करना सरल हो गया चौथी पीढ़ी के कंप्यूटर में भंडारण क्षमता काफी वृद्धि हुई।

5.पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर(Fifth generation computer)

पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर की अवधि 1980 से अब तक मानी गई है पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर में UlSIका विकास हुआ इस चिप के द्वारा करोड़ों की गणना करना संभव हो सका।

पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर को हम इंसानों की तरह सोचने लायक बनाया जा रहा है इसके लिए नई तकनीक का उपयोग किया जा रहा है पांचवी पीढ़ी का कंप्यूटर कॉफी छोटा हो गया है इसकी ज्ञान क्षमता काफी बढ़ गई है।

यह परिस्थिति के अनुसार अपना कार्यकर सकता है पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर का उपयोग जीवन के हर क्षेत्र में होने लगा है।

पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर में इंटरनेट ईमेल तथा WWW का विकास हुआ पांचवी पीढ़ी के कंप्यूटर में इंटरनेट और मल्टीमीडिया का उपयोग होने लगा यह इंसानों से भी तेज गति से कार्य करने में सक्षम है जिसे हम सुपर कंप्यूटर कहते हैं।


कम्प्यूटर का पूरा नाम क्या है (  Computer Full Form in Hindi)

आपने यह तो जाना की कंप्यूटर क्या है कंप्यूटर कैसे काम करता है लेकिन आप जानते हैं कि कंप्यूटर का पूरा नाम क्या होता है। हम कंप्यूटर को बड़ी ही आसानी से चला लेते हैं और उस पर कार्य भी कर लेते हैं परंतु कंप्यूटर के बारे में कुछ जानकारियां ऐसी होती है।

जो हमें पता नहीं होती जो हमारे बेसिक नॉलेज के लिए पता होना बहुत ही जरूरी है आज हम आपको कंप्यूटर का पूरा नाम कया है इसकी फुल फॉर्म है यह सब हम जानकारी आपको बताने जा रहे हैं।

कंप्यूटर का फुल फॉर्म हिंदी में

  • C – आम तौर पर
  • O – संचालित
  • M – मशीन
  • P – विशेष रूप से
  • U – प्रयुक्त
  • T – तकनीकी
  • E – शैक्षणिक
  • R  – अनुसंधान.

Computer Ka Full Form In English

  • C – Commonly
  • O – Operating
  • M – Machine
  • P – Particularly
  • U – Used in
  • T – Technology
  • E – Education and
  • R – Research

कंप्यूटर का फार्मूला क्या है? ( Computer ka farmula kya hai )

आपने यह तो जान दिया कि कंप्यूटर क्या है लेकिन आपने यह ना जाना कि कंप्यूटर का फार्मूला क्या होता है तो चलिए देखते हैं। हिंदी में कुछ इस प्रकार – आम ऑपरेटग मशीन वशेष प से व्यापार, शिक्षक औरअनुसंधान के लए उपयोग क जाती है।

C – Commonly O – Operated M – Machine P – Particularly U – Used for T – Technical E – Educational R – Research

कंप्यूटर कैसे काम करता है ( Computer Kaise kam karta hai in Hindi ) –

Input –

अभी तक जाना कि कंप्यूटर क्या है आप जानते हैं कंप्यूटर कैसे काम करता है एक तरह से हम इसको कह सकते हैं कि कंप्यूटर हमारी इंफॉर्मेशन को ग्रहण करता है जिसमें हमारी फाइल, फोटो, वीडियो या अन्य इंफॉर्मेशन कुछ भी हो सकती है।

Processes –

इस कंडीशन में प्रोसेसिंग के द्वारा इनपुट हुए डाटा को खोजा जाता है। यह पूरी प्रक्रिया इंटरनेट प्रोसेस पर डिपेंड होती है एक तरह से हम कहा सकते है की यह हमारे डाटा की खोज ( प्रोसेसिंग ) करता है।

Output –

आउटपुट के दौरान हमारा डाटा प्रोसेसिंग के द्वारा रिजल्ट के तौर पर बाहर निकलता है और हमारे सामने जो हो जाता है इस कंडीशन में हम हमारे डाटा को अपनी फाइल में स्टोर करके रख सकते हैं ताकि हमें फ्यूचर में काम आये।

कंप्यूटर क्या है? कंप्यूटर कैसे काम करता है

हमने क्या सीखा –

आज हमने आपको बताया कि कंप्यूटर क्या है और कंप्यूटर को कैसे उपयोग किया जाता है साथ में हमने आपको कंप्यूटर की परिभाषा भी दी है आप इस पोस्ट को देखकर ही जाए तो जान जाएंगे होंगे कि कंप्यूटर क्या होता है।

हमने आपको कंप्यूटर का पूरा इतिहास भी इस पोस्ट में बताया है साथ ही आपको यह भी बताया है कि कंप्यूटर कैसे काम करता है।

आपको इसमें कंप्यूटर की पीढीयाँ भी देखने को मिल जाएगी जिन्हें पढ़कर आप जान पाएंगे कि कंप्यूटर का निर्माण किस प्रकार हुआ था साथ में हमने आपको कंप्यूटर की विशेषता भी बताई है हमें आशा है कि आप के लिए ( कंप्यूटर क्या है ) काफी हेल्पफुल रहा होगा।

हमारी वेबसाइट पर आने के लिए हम आपका तहे दिल से धन्यवाद करते हैं और अधिक जानकारी या सीखने के लिए Tohindi पर विजिट करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *