भारतीय संविधान के विदेशी स्रोत – पूरी जानकारी

आज का विषय – भारतीय संविधान के विदेशी स्रोत

हेलो दोस्तों आपका हमारी वेबसाइट पर स्वागत है आज हम आपको भारतीय संविधान के विदेशी स्रोत के बारे में जानकारी देने जा रहे हैं कया आपको पता है भारतीय संविधान स्रोत कहां से लिए गए हैं यदि आपको नहीं पता तो बता दे की वह भारतीय संविधान के स्रोत भारत के अलावा विदेश के संविधान से भी कुछ स्त्रोत लिए गए हैं

भारतीय संविधान के विदेशी स्रोत के बारे में प्रतियोगी परीक्षाओं में भी काफी सवाल पूछे जाते हैं इन सभी सवालों के जवाब देने के लिए आज हम आपको भारतीय संविधान के विदेशी स्रोत के बारे में जानकारी देंगे जिससे आप प्रतियोगी परीक्षा तथा भारतीय संविधान की जानकारी के लिए यह हमारा पोस्ट आपके लिए काफी हेल्पफुल होने वाला है।

भारतीय संविधान के विदेशी स्रोत:-

क्या आपको पता है भारतीय संविधान के अनेक देसी और विदेशी स्रोत है लेकिन भारतीय संविधान का सबसे अधिक प्रभाव भारतीय शासन अधिनियम 1935 का रहा है अब हम आपको भारतीय संविधान में लिए गए विदेशी स्रोत के बारे में एक-एक करके जानकारी देंगे जिससे आप भारतीय संविधान के विदेशी स्रोत के बारे में अच्छी तरह जान सके।

1. संयुक्त राज्य अमेरिका

भारतीय संविधान के निर्माण में संयुक्त राज्य अमेरिका के संविधान से कुछ स्रोत लिए गए हैं जैसे कि मौलिक अधिकार ,न्यायपालिका की स्वतंत्रता, संविधान की सर्वोच्चता ,न्यायिक पुरनलोकन, राष्ट्रपति तथा उपराष्ट्रपति पर महाभियोग की प्रक्रिया और उच्च न्यायालयों के न्यायाधीशों को हटाने की विधि तथा देश में लगने वाले वित्तीय आपातकाल जैसे मुख्य स्त्रोत लिए गए हैं।

2. आयरलैंड

भारतीय संविधान के निर्माण के लिए आयरलैंड देश के संविधान से राष्ट्रपति के निर्वाचन मंडल की व्यवस्था, नीति निर्देशक सिद्धांत ,राष्ट्रपति द्वारा राज्यसभा में साहित्य कला और विज्ञान तथा समाज सेवा इत्यादि के क्षेत्रों में योगदान लिया गया है।

3. ऑस्ट्रेलिया

भारतीय संविधान के निर्माण के लिए ऑस्ट्रेलिया के संविधान से समवर्ती सूची का प्रावधान, प्रस्तावना की भाषा ,राज्य और केंद्र के बीच शक्तियों का बंटवारा तथा संसदीय विशेषाधिकार आदि जैसे स्त्रोत ऑस्ट्रेलिया के संविधान से लिए गए हैं।

4. ब्रिटेन

भारतीय संविधान के निर्माण में ब्रिटेन के संविधान से एकल नागरिकता ,विधि निर्माण प्रक्रिया तथा संसदात्मक शासन प्रणाली जैसे स्त्रोत ब्रिटेन के संविधान से लिए गए हैं।

5. जर्मनी-

भारतीय संविधान के निर्माण के लिए जर्मनी के संविधान से आपातकाल के दौरान राष्ट्रपति को मौलिक अधिकार संबंधी शक्तियों का अधिकार जर्मनी के संविधान से लिया गया है।

6. कनाडा

भारतीय संविधान के निर्माण के लिए कनाडा के संविधान से संज्ञानात्मक विशेषता तथा अवशिष्ट शक्तियां केंद्र के पास होनी चाहिए तथा राज्यपाल की नियुक्ति विषयक प्रक्रिया, राज्य और संघ के बीच शक्तियों का बंटवारा आदि स्त्रोत कनाडा के संविधान से लिए गए हैं।

7. रूस

भारतीय संविधान के निर्माण के लिए रूस से मौलिक कर्तव्यों का प्रावधान का विषय लिया गया है।

8. दक्षिणी अफ्रीका

भारतीय संविधान के निर्माण के लिए दक्षिण अफ्रीका के संविधान से संविधान संशोधन की प्रक्रिया का प्रावधान दक्षिणी अफ्रीका के संविधान से लिया गया है।

9. जापान

जापान के संविधान से विधि द्वारा स्थापित प्रक्रिया भारतीय संविधान के निर्माण का स्त्रोत जापान के संविधान लिया गया है

भारतीय शासन अधिनियम -1935

भारतीय संविधान के निर्माण मैं सबसे अधिक प्रभाव भारतीय शासन अधिनियम 1935 का रहा है। भारतीय संविधान निर्माण में भारतीय शासन अधिनियम 1935 से भारतीय संविधान के लगभग 200 प्रावधान लिए गए हैं भारतीय शासन अधिनियम 1935 से संघीय व्यवस्था ,न्यायपालिका का ढांचा , आपातकालीन उपबंध,लोक सेवा आयोग संघीय व्यवस्था तथा शक्तियों के वितरण की तीनों सूचियां ली गई है।

यह भी पढ़ें:- भारतीय संविधान की अनुसूचियां

हमने क्या सीखा:-

आज हमने आपको हमारी पोस्ट में भारतीय संविधान के विदेशी स्रोत के बारे में जानकारी दी है और बताया है कि किन-किन देशों के संविधान से कौन-कौन से स्त्रोत लिए गए हैं यह सब जानकारी आपके लिए काफी हेल्पफुल रही होगी आशा है कि हमारा यह पोस्ट आपको काफी पसंद आया होगा और आने वाले समय में भी हम आपके लिए ऐसे ही पोस्ट में ब्लॉक लाते रहेंगे।

हमारी वेबसाइट पर आने के लिए हम आपका तहे दिल से धन्यवाद करते हैं और अधिक जानकारी या सीखने के लिए Tohindiपर विजिट करें

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *